नवीन कुमार घर के अन्दर ही मशरूम कि खेती से कमाता है हजारों ….जानें पूरी कहानी

स्वरोजगार मशरूम मिशन 2020
मै नवीन कुमार दारमहा गाँव पूर्वी चंपारण का निवासी हूँ। मै अपना पढाई BSc. Agriculture, HEMVATI NANDAN BAHUGUNA GARHWAL UNIVERSITY , Uttrakhand से किया हूँ।

मै अपने पढाई के समय मशरूम की खेती का अपने subject मे पढाई किया, जिसे से मै खुद महसूस किया क्यों ना हम मशरूम की खेती का ट्रेनिंग और टेनीक्स किसान और हमारे प्रवासी मजदुर भाई को इसके बारे मे बताये, और उनको आत्मनिर्भर बनाये। हमारे किसान भाई प्रायः traditional खेती करके अपना जीवन यापन करते है, और उसमे उनको बहुत सारी परेशानी भी उठानी पड़ती है।

मशरूम की खेती ऐसा खेती है जो बिना मिट्टी के किया जाता है, और मशरूम की खेती घर के अंदर मे फुस के घर मे किया जाता है। इस मशरूम की खेती मे तापमान और नमी की भूमिका ज्यादा होती है।

बता दें कि मशरूम की खेती जो की गेहूँ का भूसा और धान का भूसा पे किया जाता है, और हमारे यहाँ अच्छे मात्रा मे गेहूँ का भूसा और धान का भूसा उपलब्ध है। मशरूम की खेती मे कम लागत से हम अच्छा प्रॉफिट कमा सकते है। हमारे प्रवासी मजदुर भाई जो दूसरे राज्य मे 10 हजार कमाने जाते है, और उनको वहाँ बहुत सारी परेशानी भी होती है, तो मै न्यूज़ फटाफट के माध्यम से कहना चाहता हूँ क्यों ना हमारे मजदुर भाई इस मशरूम की खेती को शुरू करें और अपने ही घर पे रहकर अच्छा पैसा कमाए और आत्मनिर्भर बने।

मै अपने किसानभाई और प्रवासी मजदुर भाई जिनको भी मशरूम की खेती का जानकारी और ट्रेनिंग लेना हो मेरे से contact करें मै उनको पूरी तरह से इसकी खेती का उनको तकनीक बताऊंगा। मै इसको एक मिशन के तहत काम कर रहा हूँ, जिसे की हमारे किसान भाई और प्रवासी मजदुर भी मेरे से जुड़े और इसको बढ़ावा दे ताकि और लोग भी इसको शुरू करें।


My contact no- 7543041840/ 9536587348