सड़क किनारे स्ट्रीट लाइट के निचे पढ़ती थी , मिला नौकरी और घर

रहने को घर नहीं | खाने को खाना नहीं | फिर भी कुछ कर गुजरने की चाहत होना एक बड़ी बात है | ये कहानी मुंबई आजाद मैदान के पास सड़क किनारे रहने वाली आसमा सलीम की है | आसमा सलीम अभी मात्र 17 साल की है | दसवीं पास करने के बाद आसमा मुंबई …

सड़क किनारे स्ट्रीट लाइट के निचे पढ़ती थी , मिला नौकरी और घर Read More »