Armenia में धमाके करने वाला इजराइली ड्रोन खरीदेगा भारत

आर्मेनिया और अजरबेजान में चल रहा है युद्ध और इजराइल का किलर ड्रोन आर्मेनिया में तबाही मचा रहा है जिसे भारत खरीदने जा रहा है ताकि जरूरत पड़ने पर यही धमाके पाकिस्तान और चीन के खिलाफ हो सकें..

रुक नहीं रही है आर्मेनिया और अजरबैजान के बीच चल रही जंग. आज शुक्रवार को इस लड़ाई का पांचवां दिन है और इसमें अब तक दोनों तरफ से 100 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं. आर्मेनिया के सैनिकों और टैंकों को लक्ष्य करके अजरबैजान की फौजें लगातार हमले कर रही हैं. इस हमले में इजरायली ड्रोन्स धुआंधार तबाही मचा रहे हैं. 

हारोप कामिकाज़े ड्रोन्स हैं ये 

इज़राइल के इन घातक ड्रोन्स को हारोप कामिकाज़े ड्रोन्स के नाम से जाना जाता है जो आर्मेनिया में तबाही मचा रहे हैं. अजरबैजान की सेना द्वारा आर्मेनिया के खिलाफ इस्तेमाल हो रहे ये ड्रोन्स  आत्मघाती होते हैं, जो पहले दुश्मन के क्षेत्र की रेकी करते हैं और उसके बाद अगर टॉरगेट दिखाई दिया तो उससे भिड़कर खुद को उड़ा लेते हैं. आर्मेनिया की सेना को इन ड्रोन्स की वजह से भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है और आर्मेनिया के बहुत से सैनिक इन ड्रोन-हमलों में जान गंवा चुके हैं. 

आधे से ज्यादा इजरायली हथियार हैं 

अजरबैजान के पास आधे से ज्यादा इजरायली हथियार हैं. अजरबैजान के साथ चल रहे आर्मेनिया के इस युद्ध में अब तुर्की और पाकिस्तान भी शामिल हो चुके हैं. ये दोनों इस्लामी देश अपने यहां से आतंकियों को अजरबैजान की तरफ से लड़ने के लिए भेज रहे हैं. अजरबेजान को इजरायल अपने हथियारों की सप्लाई कर रहा है और बताया जाता है कि अजरबैजान के कुल हथियार खरीद का 60 फीसदी हिस्सा इजरायल से ही आता है.

इजराइली ड्रोन्स खरीदेगा भारत 

भारत इन ड्रोन्स को खरीदने की तैयारी कर रहा है. भारत में तो पहले ही इन ड्रोन्स को इस्तेमाल किया जा रहा है और एनएसजी और दूसरी स्पेशल फोर्सेज वाली भारत की स्पेशल फोर्स का एक मजबूत हिस्सा हैं ये ड्रोन्स. अब भारत सेना के लिए भी इसकी खरीद को लेकर इजराइल से बातचीत कर रहा है और  इस ड्रोन को लेकर रिक्वेस्ट फॉर इंफॉर्मेशन भी जारी की जा चुकी है. चीन के खिलाफ ऊंचे क्षेत्रों से ये ड्रोन जोरदार मार करने में कामयाब रहेंगे.