हाथरस केस की होगी सीबीआई जांच, योगी आदित्यनाथ ने की सिफारिश

हाथरस में युवती के साथ रेप और हत्या के मामले में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सीबीआई जांच के आदेश दिए हैं। उन्होंने शनिवार को इस संबंध में ट्वीट कर जानकारी दी।

उत्तर प्रदेश के हाथरस में दलित युवती के साथ गैंगरेप के मामले में शनिवार को बड़ी खबर सामने आई। मामले में पुलिसिया रवैये को लेकर लगातार आलोचनाओं में घिरी योगी सरकार ने केस की सीबीआई जांच की सिफारिश की है। शनिवार को ट्वीट कर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खबर की पुष्टि की है। बता दें कि विपक्षी दलों की ओर से मामले की सीबीआई जांच की मांग की जा रही थी।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को ट्वीट करते हुए कहा, ‘हाथरस की दुर्भाग्यपूर्ण घटना और उससे जुड़े सभी बिंदुओं की गहन पड़ताल के उद्देश्य से उत्तर प्रदेश सरकार इस प्रकरण की विवेचना केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) के माध्यम से कराने की संस्तुति कर रही है। इस घटना के लिए जिम्मेदार सभी लोगों को कठोरतम सजा दिलाने के लिए हम संकल्पबद्ध हैं।’

पीड़िता ने मांगी थी न्यायिक जांच
हालांकि, पीड़िता के परिवार ने सीबीआई जांच की कोई मांग नहीं रखी थी। शनिवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने पीड़िता के परिवार से मुलाकात की थी। इस दौरान पीड़िता के परिजन ने मामले की न्यायिक जांच की मांग की थी। इसके कुछ ही देर बाद सीएम ने मामले की सीबीआई जांच का आदेश जारी कर दिया। मीडिया से बात करते हुए पीड़िता के परिवार ने

सीबीआई जांच पर संतोष जाहिर किया है।

पीड़िता के भाई ने कहा कि हम चाहते थे कि सुप्रीम कोर्ट के जज की निगरानी में मामले की जांच की जाए लेकिन सीबीआई जांच भी ठीक है। उन्होंने कहा कि उन्हें केवल जांच से संतुष्टि नहीं है। उन्हें उनके सवालों का जवाब दिया जाए। उन्होंने सवाल दोहराते हुए कहा कि वह जानना चाहते हैं कि जिसकी बॉडी जलाई गई थी वह किसकी थी? अगर वह उनकी बहन का शव था तो उसे इस तरीके से क्यों जलाया गया? डीएम ने उनके साथ बदसलूकी क्यों की?

राहुल गांधी ने परिवार को सौंपा चेक
पीड़िता के भाई ने कहा कि वह चाहते थे कि सुप्रीम कोर्ट के जज की निगरानी में या फिर फास्ट ट्रैक कोर्ट में मामले की जांच की जाए। उन्होंने डीएम हाथरस को लेकर भी नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने राहुल से भी मांग की थी कि उन्हें जल्द से जल्द हटवाया जाए। पीड़िता के भाई ने बताया कि राहुल गांधी ने उन्हें न्याय का आश्वासन दिया है। उन्होंने कहा कि वह उनके साथ खड़े हैं और वह अन्याय के खिलाफ लड़ेंगे। उन्होंने पीड़िता के परिवार को सहायता राशि का चेक भी सौंपा है।