गांधी जयंती: जानिए खुद अपने जन्मदिन दो अक्टूबर को बापू क्या करते थे

आज से 102 साल पहले, जब साल 1918 में गांधीजी ने अपना जन्मदिन मनाने वालों से कहा था ‘मेरी मृत्यु के बाद मेरी कसौटी होगी कि मैं जन्मदिन मनाने लायक हूं कि नहीं.’

देश राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 102वीं जयंती मनाने को तैयार है. इस मौके पर सरकार और गांधीवादी संस्थाओं की ओर से कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं. सफाई से लेकर अहिंसा के पाठ तक लोग अलग-अलग तरीके से बापू को याद करते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं अपने जन्मदिन के दिन गांधी क्या करते थे और कैसे अपना जन्मदिन मनाते थे…

गांधीवादी रामचंद्र राही के अनुसार, शायद गांधीजी जन्मदिन नहीं मनाते थे, लेकिन लोग उनके जन्मदिन का जश्न मनाते थे. उन्होंने 100 साल पहले गांधी के कहे कथनों का जिक्र करते हुए कहा, आज से 102 साल पहले, जब साल 1918 में गांधीजी ने अपना जन्मदिन मनाने वालों से कहा था ‘मेरी मृत्यु के बाद मेरी कसौटी होगी कि मैं जन्मदिन मनाने लायक हूं कि नहीं.’

फिर अपने जन्मदिन दो अक्टूबर को बापू करते क्या थे?

देशभर में फैलीं गांधीवादी संस्थाओं की मातृ संस्था, गांधी स्मारक निधि के अध्यक्ष, रामचंद्र राही ने कहा कि यह गंभीर दिन होता था, इस दिन वह ईश्वर से प्रार्थना करते थे, चरखा चलाते थे और ज्यादातर समय मौन रहते थे. किसी भी महत्वपूर्ण दिन को वह इसी तरह मनाते थे.

लेकिन सरकार आज गांधी जयंती पर तरह-तरह के समारोह आयोजित कर रही है, चारों तरफ हंगाम है, पूरे सालभर कार्यक्रम चलने हैं. इस पर राही ने आईएएनएस को बताया, ‘सरकार तो कोई भी आयोजन अपने मतलब से करती है. उसे गांधी के विचारों से कुछ लेना-देना नहीं है. सरकार अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षा पूरी करने के लिए गांधी के नाम का इस्तेमाल करती है.

उनका कहना है कि अगर सरकार सचमुच गांधी का जन्मदिन मनाना चाहती है तो उसे गांधी के विचारों पर समाज को आगे ले जाने की कोशिश करनी चाहिए. लेकिन इसका लक्षण नहीं दिखता, वर्तमान सरकार गांधी को और गांधी के जन्मदिन को सफाई के साथ जोड़ती है.

गांधी जयंती के उपलक्ष्य में सरकार की तरफ से स्वच्छता अभियान चलाए जा रहे हैं. इस पर राही ने कहा, “अगर सफाई के बारे में सोचें तो पहला काम यह होना चाहिए कि देश में सफाई करने वालों को ऐसी सुविधाएं मुहैया कराई जानी चाहिए, जिससे उन्हें गटर में उतर कर सफाई न करनी पड़े. सफाईकर्मियों को मृत्यु के मुंह में धकेलना सरकार के लिए शर्म की बात है.”