बिहार में कानून-व्‍यवस्‍था पर गरमाई सियासत, चिराग पासवान को चाहिए राष्ट्रपति शासन तो कांग्रेस चाहती फुलटाइम गृहमंत्री

बिहार में राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की सरकार बनने के बाद से बढ़े अपराध पर लगाम लगाने के लिए मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार कई हाई लेवल बैठकें कर चुके हैं।

इस बीच यहां की कानून-व्‍यवस्‍था को लेकर चिराग पासवान के नेतृत्‍व में लोक जनशक्ति पार्टी ने राष्ट्रपति शासन की मांग की है।

उधर, कांग्रेस ने भी राज्‍य में फुलटाइम गृहमंत्री की मांग रखी है। एलजेपी के साथ-साथ विपक्ष के हमले के बीच एनडीए के नेता भी सरकार के बचाव में उतर आए हैं।

एलजेपी ने राष्‍ट्रपति शासन को ले अमित शाह को लिखा पत्र

एलजेपी बिहार में भले ही एनडीए से बाहर हो, वह केंद्र में अभी भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार के साथ है। लेकिन पार्टी सुप्रीमो चिराग पासवान को बिहार में नीतीश कुमार का नेतृत्‍व स्‍वीकार नहीं है।

ऐसे में एलजेपी केंद्र में एनडीए का हिस्‍सा रहते हुए बिहार की नीतीश सरकार के खिलाफ हमले का कोई मौका हाथ से नहीं जाने दे रही है।

ताजा मामला बिहार में हाल के दिनों में बढ़े अपराध को लेकर एलजेपी द्वारा राष्‍ट्रपति शासन लगाने की मांग का है।

बिहार में कानून-व्‍यवस्‍था के बदतर हालात व बढ़ते अपराध के आरोप में एलजेपी के बिहार मीडिया प्रभारी कृष्णा सिंह कल्‍लू द्वारा भेजे गए इस पत्र में गृह मंत्री अमित शाह से आग्रह किया गया कि वे बिहार में राष्ट्रपति शासन लगाने के लिए पहल करें।