किसान आंदोलन: भारत बंद के समर्थन में 11 विपक्षी दलों ने जारी किया बयान, राष्ट्रपति से भी मिलेंगे

कृषि कानूनों को लेकर प्रदर्शन कर रहे किसानों के भारत बंद के समर्थन में विपक्षी दल भी उतर आए हैं. देशभर से अलग-अलग राजनीतिक दलों ने किसानों के इस बंद के ऐलान को समर्थन देने की घोषणा की है.

कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, आम आदमी पार्टी समेत देश के तमाम विपक्षी दलों ने किसानों की ओर से 8 दिसंबर को बुलाए गए भारत बंद का समर्थन किया है.

किसानों के समर्थन में 11 दलों ने बयान जारी किया है. कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, PAGD, NCP, CPI, CPM, CPI (ML), RSP, RJD, DMK,और AIFB ने बयान जारी कर किसानों की मांग पूरी करने और कृषि कानून 2020 में संशोधन की मांग की है.

बयान में कहा गया है कि हम किसानों के साथ खड़े हैं, किसान संगठनों के मौजूदा संघर्ष और उनके भारत बंद के ऐलान का हम समर्थन करते हैं.

विपक्षी दलों की ओर से कहा गया है कि ये कृषि कानून संसद में अलोकतांत्रिक तरीके से बनाए गए हैं. वोटिंग और चर्चा नहीं की गई.

भारत की खाद्य सुरक्षा के लिए यह कानून खतरा है और यह हमारे किसान और कृषि व्यवस्था को बर्बाद कर देगा. इन पार्टियों नेताओं ने 9 दिसंबर को शाम पांच बजे राष्ट्रपति से मिलने के लिए समय भी मांगा है.