शराबबंदी कानून को लेकर CM नीतीश ने लगाई थी क्लास, अब 4 थानाध्यक्ष एक साथ सस्पेंड

बिहार में अपने काम में कोताही बरतने वाले चार थानेदारों को एक साथ सस्पेंड कर दिया गया है. दरअसल शनिवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सत्ता संभालने के बाद पहली बार कानून व्यवस्था और शराबबंदी कानून को लेकर समीक्षात्मक बैठक की थी.

इस बैठक में मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को शराबबंदी कानून को प्रभावी ढंग से लागू करने और आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश देने के साथ ही इस मामले में पुलिस महकमे द्वारा बढ़ती जा रही घोर लापरवाही को लेकर  नाराजगी जताई थी.

सीएम ने निर्देश दिया था कि शराबबंदी कानून का माखौल उड़ाने वाले अधिकारियों के खिलाफ पुलिस मुख्यालय कठोर कार्रवाई करें और इसी कड़ी में मध निषेध कानून के क्रियान्वयन और आसूचना संकलन में  लापरवाही पर भी मुख्यमंत्री ने बिहार पुलिस मुख्यालय को कार्रवाई के निर्देश दिया.

मुख्यमंत्री की बैठक के दूसरे ही दिन बिहार पुलिस के मुखिया एसके सिंघल के निर्देश पर एक साथ चार थाना प्रभारियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई चलाने का फैसला लिया गया है.

पहली गाज राजधानी पटना के कंकड़बाग थानाध्यक्ष पर गिरी है. दरअसल पुलिस मुख्यालय के केंद्रीय टीम द्वारा कंकड़बाग थाना क्षेत्र के अशोकनगर में छापेमारी कर भारी मात्रा में शराब जब्त की गई थी.

 इस मामले ने यह साबित कर दिया कि कंकड़बाग थाना की पुलिस शराबबंदी कानून को लागू करने में सक्षम नहीं है, लिहाजा बिहार पुलिस मुख्यालय ने कंकड़बाग थानाध्यक्ष अजय कुमार को तत्काल प्रभाव से निलंबित करते हुए उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई चलाने का फैसला किया.