बिहार में अगले साल से बढ़ सकते हैं बिजली के दर, जानें क्यों काटे जा रहे हैं उपभोक्ताओं के कनेक्शन

बिजली कंपनी ने अगले साल (2021-22) का बिजली दर (टैरिफ) तय करने का आवेदन बिहार विद्युत विनियामक आयोग को देने के लिए आयोग से 31 दिसंबर तक का समय मांगा है.

पहले यह आवेदन 15 नवंबर तक देने की समय- सीमा थी, लेकिन कोरोना संकट के कारण बिजली कंपनी ने अतिरिक्त समय की मांग की है.

आवेदन आने के बाद आयोग आगे की प्रक्रिया शुरू करेगा. फिलहाल बिजली दर (टैरिफ) 31 मार्च 2021 तक लागू है.

नयी बिजली दर एक अप्रैल, 2021 से 31 मार्च, 2022 तक लागू रहेगी.

अगले साल बिजली दर में 10 से 25 फीसदी बढ़ोतरी!

सूत्रों का कहना है कि बिजली कंपनी अगले साल बिजली दर (टैरिफ) में 10 से 25 फीसदी बढ़ोतरी का आवेदन देने की तैयारी कर रही है.

हालांकि, इस पर अंतिम निर्णय बिहार विद्युत विनियामक आयोग का होगा. राज्य में लगातार दो साल 2019-20 और 2020-21 में बिजली दर में बढ़ोतरी नहीं की गयी है.

2020-21 में ताे आम उपभोक्ताओं के लिए मीटर रेंट खत्म कर दिया गया था, साथ ही 10 पैसे प्रति यूनिट की कमी की गयी थी.

बिजली बिल जमा नहीं करने पर कटने लगे कनेक्शन

बिजली कंपनी ने बिजली बिल जमा नहीं करने वालों के खिलाफ राज्यभर में कार्रवाई शुरू कर दी है. बकायेदार उपभोक्ताओं के बिजली कनेक्शन काटे जा रहे हैं.

वहीं बिजली बिल जमा करने के लिए कंपनी ने रविवार को छुट्टी के दिन भी बिलिंग काउंटर खुलवाया है. वहां कोरोना संक्रमण रोकने संबंधी सभी गाइडलाइन का पालन किया जा रहा है.

इसका मकसद काउंटर पर उपभोक्ताओं को बिल जमा करने की सुविधा देना है.