क्या उद्धव सरकार के ‘The End’ की स्क्रिप्ट लिख रही है BJP?

महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की अगुवाई वाली महाराष्ट्र विकास अघाड़ी सरकार को एक साल पूरा होने जा रहा है.

पिछले साल 28 नवंबर को शिवसेना ने अपनी धुर विरोधी कांग्रेस-एनसीपी के साथ मिलकर राज्य में सरकार बनाई थी. 288 सीटों वाली विधानसभा में सौ से ज्यादा विधायकों वाली बीजेपी बस देखती रह गई.

लेकिन अब पार्टी के नेता खुलेआम उद्धव सरकार की विदाई की तारीख का ऐलान कर रहे हैं. शिवसेना इसे खीझ बता रही है लेकिन राज्य में जिस तरह के सत्ता समीकरण हैं उसमें किसी भी संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता. 

केंद्रीय मंत्री रावसाहेब दानवे ने दावा किया है कि बीजेपी महाराष्ट्र में अगले दो-तीन महीने में सरकार बना लेगी. दानवे ने औरंगाबाद स्नातक निर्वाचन क्षेत्र में विधान परिषद चुनाव के लिए परभणी में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए यह बात कही.

उन्होंने यह भी कहा कि हम सिर्फ विधान परिषद चुनाव का इंतजार कर रहे हैं. राज्य में सरकार कैसे बनेगी यह मैं आपको नहीं बताऊंगा, यह उन्हें बताऊंगा वो भी सरकार स्थापित करने के बाद.

इस फॉर्मूले से बन सकती है बीजेपी सरकार

बीजेपी को महाराष्ट्र की सत्ता पर काबिज होने के लिए 145 विधायकों का समर्थन चाहिए होगा. इस लिहाज से उसे 28 विधायकों के समर्थन जुटाना होगा.

बीजेपी के लिए यह तभी संभव हो सकेगा जब कांग्रेस, शिवसेना या फिर एनसीपी के एक तिहाई विधायक पार्टी से बगवात कर अपनी पार्टी बनाएं और फिर बीजेपी को समर्थन दें.

इसके अलावा दूसरा विकल्प यह है कि महा विकास अघाड़ी के करीब 60 विधायक अपनी सदस्यता से इस्तीफा दे दें.

साफ है कि दोनों विकल्प आसान नहीं हैं, यही वजह है कि बीजेपी के बयानों पर शिवसेना गंभीरता से लेने के बजाय उसे पार्टी की खीझ ज्यादा बता रही है.