BIhar Election 2020: चुनाव प्रचार में सबसे आगे निकले तेजस्‍वी, जानिए किस नेता ने की कितनी रैलियां

बिहार चुनाव के तीसरे चरण के लिए मतदान का आखिरी घंटा चल रहा है। इसके बाद अब मतगणना 10 नवंबर को होगी। मतदान से पहले नेताओं ने अपनी पार्टी और प्रत्‍याशी के लिए जमकर प्रचार किया।

इस प्रचार के आंकड़ों की बात करें तो लालू के लाल तेजस्‍वी ने सभी नेताओं को पीछे छोड़ दिया है। इस बार वह सबसे ज्‍यादा प्रचार करने वाले नेता बन गए हैं। आइए जानते हैं किस नेता ने कितना प्रचार किया।

इस चुनाव प्रचार में सबसे ज्‍यादा प्रचार करने वाले नेताओं में तेजस्‍वी  और नीतीश जहां मुख्‍यमंत्री पद के सीधे सीधे दावेदार हैं वहीं, तीसरे गठबंधन की तरफ से उपेंद्र कुशवाहा सीएम पद के उम्‍मीदवार हैं।

इस प्रचार में कांग्रेस की अध्‍यक्ष सोनिया गांधी और भाजपा की तरफ से पूर्व अध्‍यक्ष अमित शाह ने बिहार में चुनावी प्रचार में नहीं उतरे। वहीं, इन दोनों ही नेताओं ने अपनी खराब सेहत का हवाला देकर चुनाव से दूरी बनाए रखी। 

राजद नेता तेजस्‍वी ने एक दिन में सबसे ज्‍यादा 19 सभाएं की हैं और वह रोड शो से भी पार्टी के लिए प्रचार करते नजर आए। वहीं उनके कुल जनसभा या रैली की बात करें तो वह 247 जनसभा विभिन्‍न विभन्‍न जिलों में किए हैं।

वह सुबह से शाम तक ज्‍यादा से ज्‍यादा रैलियों को कवर करने का प्‍लान बनाते थे। यह भी जानकारी मिली वह ज्‍यादा से ज्‍यादा रैलियो को कवर करने के लिए कम से कम 15 मिनट और ज्‍यादा से ज्‍यादा 30 मिनट तक ही रैलियों में रुकते थे। 

बिहार चुनाव में महागठबंधन की सहयोगी पार्टी कांग्रेस की तरफ से प्रचार करने के लिए उतरे राहुल गांधी ने आठ सभाएं की हैं। वहीं, प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने 20 से अधिक रैलियां कर महागठबंधन के प्रत्याशियों के लिए वोट मांगें। इस प्रचार में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी प्रचार में हिस्सा लिया।

महागठबंधन को टक्‍कर देने वाली राजग की तरफ से सीएम उम्‍मीदवार रहे नीतीश कुमार ने भी पार्टी के लिए जमकर प्रचार किया। उन्‍होंने 160 से अधिक सभाएं की। इस दौरान उन्‍होंने करीब छह बार पीएम मोदी के साथ मंच शेयर किया।

पीएम ने इस चुनावी फिजां में कभी रैली कर तो कभी वर्चुअल तरीके से सभा कर लोगों से जुड़ने का प्रयास किया। वहीं उन्‍होंने करीब 12 जनसभा को संबोधित कर राजग के पक्ष में वोट देने की अपील की है। पीएम की पहली सभा 23 अक्टूबर को सासाराम में हुई थी वहीं उनकी अंतिम चुनावी सभा तीन नवंबर को फारबिसगंज में थी।

Posted by Raushan Kumar