2002 गुजरात दंगों की जांच के लिए बनी SIT के चीफ रहे राघवन का दावा- 9 घंटे चली पूछताछ के दौरान मोदी ने एक कप चाय भी नहीं ली थी

2002 के गुजरात दंगों की जांच करने वाली एसआईटी के तत्कालीन प्रमुख आर के राघवन ने अपनी आत्मकथा में बताया है कि तत्कालीन सीएम नरेंद्र मोदी ने किस तरह सभी सवालों का जवाब दिया। 9 घंटे लंबी पूछताछ में उन्होंने एक कप चाय भी कबूल नहीं की। वह खुद के लिए पीने का पानी भी साथ लेकर आए थे।

गुजरात दंगों की जांच को बनी एसआईटी ने सूबे के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी से 9 घंटे लंबी मैराथन पूछताछ की थी। उस दौरान उनसे करीब 100 सवाल पूछे गए और उन्होंने किसी भी सवाल पर टालमटोल नहीं की। इतना ही नहीं, मैराथन पूछताछ के दौरान मोदी ने पूछताछकर्ताओं की तरफ से एक कप भी चाय स्वीकार नहीं किया। यह दावा उस समय जांचकर्ताओं की टीम का नेतृत्व करने वाले आर. के. राघवन ने अपनी नई किताब में किया है।

2002 के गुजरात दंगों की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट ने एसआईटी का गठन किया था जिसका प्रमुख राघवन को बनाया गया। उससे पहले वह सीबीआई के डायरेक्टर के तौर पर अपनी सेवाएं दे चुके थे। गुजरात दंगों के अलावा वह कई हाई-प्रोफाइल मामलो की जांच में जुड़े रहे जिनमें बोफोर्स घोटाला, 2000 का साउथ अफ्रीका क्रिकेट मैच-फिक्सिंग केस और चारा घोटाले जैसे मामले शामिल हैं।

Source NBT