दुर्गा पूजा आयोजकों को कलकत्ता HC से राहत, अब पंडालों में अधिकतम 60 लोग कर सकते हैं प्रवेश

कलकत्ता हाईकोर्ट ने पूजा पंडालों को नो एंट्री जोन बताने वाले आदेश में थोड़ा बदलाव किया है। कोर्ट के नए आदेश के अनुसार पूजा आयोजकों को थोड़ी राहत मिली है, क्योंकि हाईकोर्ट के नए आदेश के मुताबिक, अब अधिकतम 60 लोग एक बार में पंडाल में प्रवेश कर सकते हैं। दरअसल, पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा आयोजकों ने पंडालों के संबंध में अदालत के आदेश में मामूली बदलाव का अनुरोध किया था, जिसकी सुनवाई आज हुई। कोलकाता हाईकोर्ट ने अपने आदेश को थोड़ा संशोधित किया और कहा कि बड़े पूजा पंडालों में अधिकतम 60 लोग जा सकते हैं, जबकि छोटे पंडालों में 15 लोगों के प्रवेश की इजाजत होगी। 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, कोर्ट ने अपने आदेश में ढाकी को ( एक तरह से पारंपरिक ड्रम वादक) को भीनो पूजा पंडालों के एंट्री जोन में जाने की इजाजत दे दी है। इस फैसले के बाद वे अब पंडाल के गेट के बाहर ढोल बजा सकते हैं। गौरतलब है कि महानगर में दुर्गा पूजा आयोजकों के एक संघ ने मंगलवार को कलकत्ता उच्च न्यायालय में याचिका दाखिल कर कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए पंडालों को ‘नो एंट्री जोन’ बनाने के अदालत के आदेश में ‘मामूली बदलाव’ का अनुरोध किया था।

Source hindustan