समस्तीपुर: कैंसर का फर्जी मरीज बन कराया टिकट कंफर्म, गिरफ्तार

समस्तीपुर स्टेशन पर कैंसर मरीज बनकर कंफर्म टिकट बनाकर यात्रा करने से पहले ही दो युवकों को वाणिज्य विभाग, आरपीएफ व जीआरपी की टीम ने मंगलवार को दबोच लिया। जांच के दौरान कैंसर प्रमाण पत्र फर्जी होने व फर्जीवाड़ा करने की स्वीकारोक्ति के बाद दोनों के विरुद्ध रेल थाने में फर्जीवाड़ा सहित अन्य धाराओं में प्राथमिकी दर्ज करायी गयी।

गिरफ्तार युवकों में समस्तीपुर जिले के वारिसनगर थाना के सारी गांव के राय विरेंद्र कृष्ण सिंह का पुत्र नीतीश कुमार व मुजफ्फरपुर जिले के कुढ़नी थाने के कुढ़नी गांव का गरीबनाथ पासवान का पुत्र विकास कुमार शामिल है। नीतीश वर्तमान में दिल्ली वेस्ट उत्तमनगर में बी ब्लॉक, बी 106, गली नंबर 50, महावीर इन्कलेब पार्ट चार में रहता है। रेल थानाध्यक्ष रंजीत कुमार ने बताया कि प्राथमिकी दर्ज कर ली गयी है। इधर, पूछताछ में नीतीश कुमार ने दिल्ली सफदरगंज अस्पताल में संविदा कर्मी के रूप में कार्यरत बताया है।

बिहार संपर्क में कटाया था टिकट

नीतीश ने अपने को कैंसर मरीज बताकर बिहार संपर्क क्रांति एक्सप्रेस के थर्ड एसी में 18 अक्टूबर को टिकट कटाया था। वहीं अपने सहयोगी के रूप में विकास के नाम से भी टिकट कटाया। काउंटर पर टिकट देने के दौरान कैंसर मरीज का दिया गया प्रमाण पत्र कर्मियों को फर्जी जान पड़ा।

इसके बाद मंगलवार को जब दोनों ट्रेन पर चढ़ने पहुंचे तो पूर्व से तैनात सीआरएस शशिकांत कुमार, आरपीएफ एसआई निरंजन कुमार सिन्हा आदि पहुंचे और पहले विकास को पकड़ा। फिर नीतीश को भी पकड़ पूछताछ की। पूछताछ में नीतीश ने सफदरगंज अस्पताल से फर्जी प्रमाण पत्र बनाने की बात कबूल की। आरपीएफ इंस्पेक्टर मो. आलम अंसारी ने बताया कि पूछताछ व जांच के बाद दोनों को रेल थाना के हवाले कर मामला दर्ज कराया गया।

Source hindustan